+ 919811880150
जन्म समय के दोष -ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह शुभ समय क्या है और अशुभ समय किसे कहते हैं

जन्म समय के दोष -ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह शुभ समय क्या है और अशुभ समय किसे कहते हैं

जन्म समय के दोष नज़रअन्दाज़ ना करें। जिस व्यक्ति का जन्म शुभ समय में होता है, उसे जीवन में अच्छे फल मिलते हैं और जिनका अशुभ समय में उसे कटु फल मिलते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह शुभ समय क्या है और अशुभ समय किसे कहते हैं, आइए जाने। अमावस्या में जन्म: ज्योतिष...
विभिन्न नक्षत्र एवं उनके स्वामी

विभिन्न नक्षत्र एवं उनके स्वामी

भारतीय ज्योतिष शास्त्र में कुल मिला कर 28 नक्षत्रों कि गणना है, तथा प्रचलित केवल 27 नक्षत्र है उसी के आधार पर प्रत्येक मनुष्य के जन्म के समय नामकरण होता है. अर्थात मनुष्य का नाम का प्रथम अक्षर किसी ना किसी नक्षत्र के अनुसार ही होता है. तथा इन नक्षत्रों के स्वामी भी...
जन्म से मृत्यु तक कुंडली के 12 भाव

जन्म से मृत्यु तक कुंडली के 12 भाव

मनुष्य के लिए संसार में सबसे पहली घटना उसका इस पृथ्वी पर जन्म है, इसीलिए प्रथम भाव जन्म भाव कहलाता है। जन्म लेने पर जो वस्तुएं मनुष्य को प्राप्त होती हैं उन सब वस्तुओं का विचार अथवा संबंध प्रथम भाव से होता है जैसे-रंग-रूप, कद, जाति, जन्म स्थान तथा जन्म समय की बातें।...
How To Energise a Yantra To Get Blessed..

How To Energise a Yantra To Get Blessed..

Here are few things you need to do after receiving Yantra: You should place the Yantra after bath in the morning in direction as stated in other post. Light incense/oil lamp, offer a flower and chant the deity mantra or mantra of Yantra a minimum of 1008 times. 4.The...